Lalu told why BJP is not in favor of caste census cornered him by showing data of World Inequality Lab

लालू यादव ने बताया क्यूं जातिगत जनगणना के पक्ष में नहीं है बीजेपी

वर्ल्ड इंक्वालिटी लैब के आंकड़े को दिखा कर आरजेडी सुप्रीमो लालू यादव ने भाजपा पर निशाना साधा है। और यह भी कहा कि इसलिए भाजपा जातिगत जनगणना नहीं कराने के पक्ष में है। क्यूंकि जातिगत जनगणना की वजह से संपन्न लोगों की प्रभुत्व उजागर हो सकती है। आई रिपोर्ट के हिसाब से लालू यादव का यह बयान है कि उच्च जातियों के पास देश की कुल संपत्ति का 88.4 प्रतिशत है

वहीं ओबीसी के पास सिर्फ 9 प्रतिशत संपति है और अनुसूचित जाति, अनुसूचित जन जाति के पास देश के पूरे संपत्ति में से सिर्फ 2.6 प्रतिशत ही संपति है। वहीं 2013 में ओबीसी के पास पूरे देश की संपत्ति में से 17.3 प्रतिशत संपत्ति था और 2022 में यही संपत्ति घट कर सिर्फ 9 प्रतिशत की संपत्ति ओबीसी के बचा गया है। जिसकी वजह से छोटे और मध्यम वर्ग के व्यवसाय लागतार घाटे में जा रही है। किसान सरकार के गलत नीतियों के कारण घाटे में जा रहे है। वहीं बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री लालू यादव का कहना है।

कि देश में ओबीसी एससी एसटी वर्ग की आबादी लगभग 85 प्रतिशत है। यही कारण से भाजपा पार्टी जातिगत जनगणना कराने के लिए तैयार नहीं हैं। देश के लगभग 89 प्रतिशत आबादी छोटे वर्गों के हैं। इससे यह पता चलता है कि हमारे देश में सामाजिक आर्थिक असमानता कितनी अधिक है। मोदी सरकार लगातार पिछले दस सालों से ओबीसी एससी एसटी छोटे जाति पर निशाना साध कर उसको खत्म कर रही है।

लाल यादव ने यह भी कहा है कि जब तक ओबीसी एससी एसटी और उच्च जाति के गरीब लोग भाजपा को अपना नेता मानेंगे तब तक यह आंकड़े और भी बद्तर होते जायेंगे और लालू यादव जी ने यह भी कहा की भाजपा पार्टी के लोगो। ओबीसी एससी एसटी जैसे छोटे लोगों को गुमराह कर देते है ताकि ये लोग अपने अधिकार की वाजिब मांग न करें। हम आपको यह भी बता दें कि वर्ल्ड इंक्वालिटी लैब के आंकड़े को लेकर फिर से तेज हो सकती है।

Some Important Link

Telegram LinkClick Here
Home Page Link Click Here

Leave a Comment